Chanakya Quotes in Hindi – Inspirational, Life, Success & Famous Quotes

Chanakya Quotes in Hindi

Chanakya Quotes in Hindi – Life, Motivational and Success Quotes: चाणक्य को एक भारतीय दार्शनिक, शिक्षक, अर्थशास्त्री और न्यायविद के रूप में पूरे विश्व में जाना जाता है। उन्हें कौटिल्य और विष्णुगुप्त के नाम से भी जाना जाता था। चाणक्य चंद्रगुप्त मौर्य के शाही सलाहकार थे। उन्होंने मौर्य साम्राज्य की नींव, विस्तार और निर्माण में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने चंद्रगुप्त मौर्य के पुत्र बिन्दुसार के भी मुख्य सलाहकार के रूप में कार्य किया।

चाणक्य को एक भारतीय दार्शनिक, शिक्षक, अर्थशास्त्री और न्यायविद के रूप में पूरे विश्व में जाना जाता है। उन्हें कौटिल्य और विष्णुगुप्त के नाम से भी जाना जाता था। चाणक्य चंद्रगुप्त मौर्य के शाही सलाहकार थे। उन्होंने मौर्य साम्राज्य की नींव, विस्तार और निर्माण में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने चंद्रगुप्त मौर्य के पुत्र बिन्दुसार के भी मुख्य सलाहकार के रूप में कार्य किया।

उन्होंने चंद्रगुप्त को पढ़ाया और चंद्रगुप्त मौर्य और बिन्दुसार के दरबार की सेवा की। अलग-अलग किंवदंतियों में अलग-अलग कहानियां हैं कि कैसे चंद्रगुप्त राजा बने और चाणक्य उनके मुख्यमंत्री। भारत में राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र के प्रणेता चाणक्य निश्चित रूप से जानते थे कि जीवन से कैसे निपटना है और एक कदम आगे रहना है।  इसलिए दोस्तों जीवन में सफलता पाने के लिए और हमेशा आगे बढ़ते रहने की प्रेरणा के लिए आपको आचार्य चाणक्य द्वारा दिए गए हिंदी सुविचारों, Chankya Hindi Quotes और अनमोल वचनो को जरूर पढ़ना चाहिए।

तो आइये दोस्तों बिना कोई समय गवाए आगे बढ़ते है और पढ़ते है Chanakya Quotes in Hindi. उम्मीद है आपको नीचे दिए गए चाणक्य हिंदी कोट्स जरूर पसंद आएंगे और आप इन्हे अपने प्रियजनों के साथ Whatsapp और Facebook पर भी जरूर शेयर करेंगे।

  • नादानों से दोस्ती कीजिए, मुसीबत के वक़्त कोई समझदार साथ नहीं आता।
  • दो बातें मानसिक दुर्बलता प्रकट करती हैं, एक बोलने के अवसर पर चुप रहना, दूसरा चुप रहने के अवसर पर बोलना।
  • बुद्धिमान चुप रहते हैं, समझदार बोलते हैं, मुर्ख बहस करते हैं।
  • शब्दों में जिम्मेदारी झलकनी चाहिए, आपको बहुत से लोग पढ़ते हैं।
  • सबसे बड़ा गुरु मंत्र हैं, कभी भी अपने राज़ दूसरो को मत बताएं, ये आपको बर्बाद कर देगा।
  • अगर समझाने से लोग समझ जाते तो बांसुरी बजाने वाला कभी महाभारत होने नहीं देता।
  • राजनीती में हिस्सा ना लेने का दंड यह हैं की अयोग्य व्यक्ति आप पर शासन करने लगते हैं।
  • हर मित्रता के पीछे कोई ना कोई स्वार्थ होता हैं, ऐसी कोई मित्रता नहीं जिसमें कोई स्वार्थ ना हो।
  • सभा में जो दूसरे लोगों के व्यक्तिगत दोषों को दिखाता हैं, वह वास्तव में अपने दोषों को दिखाता हैं।
  • नीम की जड़ में मीठा दूध डालने से नीम मीठा नहीं हो सकता, उसी प्रकार कितना भी समझाओ दुर्जन व्यक्ति का साधु बनना मुश्किल हैं।
  • हे बुद्धिमान लोगों! अपना धन उन्ही को दो जो उसके योग्य हो और किसी को नहीं, बादलों के द्वारा लिया गया समुन्द्र का जल हमेशा मीठा होता हैं।
  • जीवन के तीन मंत्र, आनंद में वचन मत दीजिये, क्रोध में उत्तर मत दीजिये और दुःख में निर्णय मत लीजिये।
  • उसके साथ जरूर रहो जिसका वक़्त ख़राब हैं, पर उसका साथ छोड़ दो जिसकी नियत ख़राब हैं।
  • चाणक्य कहते हैं नेक इंसान बनने की वैसी ही कोशिश करो, जैसे खूबसूरत दिखने के लिए करते हो।
  • धर्म पर बात करना जितना आसान हैं, इसे आचरण में लाना उतना ही मुश्किल।
  • आचार्य के अनुसार बोलना तो सब जानते हैं, पर कब और क्या बोलना हैं ये बहोत कम लोग जानते हैं।
  • सेवक को तब परखें जब वह काम ना कर रहा हो, रिश्तेदार को कठिनाई में, मित्र को संकट में और पत्नी को घोर विप्पति में, ये परिस्थितिया परखने के लिए अनुकूल हैं।
  • जिस व्यक्ति का पुत्र उसके नियंत्रण में हो, जिसकी पत्नी आज्ञानुसार काम करे और जो मनुष्य अपने कमाए हुए धन से संतुष्ट हो, ऐसे व्यक्ति के लिए ये संसार स्वर्ग के समान हैं।
  • जो ज्ञानी होता हैं उसे समझाया जा सकता हैं, जो अज्ञानी हो उसे भी समझाया जा सकता हैं, परन्तु जो अभिमानी हो उसे कोई नहीं समझा सकता, उसे सिर्फ वक़्त ही समझा सकता हैं।
  • आचार्य के अनुसार जैसे एक बछड़ा हज़ारो गायों के झुण्ड में अपनी माँ के पीछे चलता हैं, उसी प्रकार इंसान के अच्छे और बुरे कर्म उसके पीछे चलते हैं।
  • कोयल तब तक मौन रहती हैं जब तक उसकी मधुर वाणी नहीं फूट पड़ती, इसलिए जब भी बोलो मधुर ही बोलो, बल्कि कड़वा बोलने से अच्छा है चुप रहना।
  •  कभी कभी जीवन में बुरा वक़्त आपको अच्छे लोगों से मिलवाने के लिए आता हैं।
  •  आचार्य के अनुसार दूसरो के बारे में उतना ही बोलो जितना खुद के बारे में सुन सको।
  •  चाणक्य कहते हैं अक्सर तारीफों के पुल के नीचे, मतलब की नदी बहती हैं।
  •  आचार्य कहते हैं जिस प्रकार दूध में मिला जल भी दूध ही बन जाता हैं, उसी प्रकार गुणी व्यक्ति का आश्रय पाकर गुणीहीन भी गुणी बन जाता हैं।

इसे भी जरूर पढ़े: Hindi Life Quotes

Chanakya Inspirational Quotes On Life

चाणक्य द्वारा दिए गए सुविचार और अनमोल वचन लोगो को सदियों से प्रेरित करते आ रहे है, और आज के काल खंड में भी वे विचार उतने ही सटीक बैठते है जितने की उस समय। इसलिए अगर आप जीवन में किसी भी तरह की समस्या से जूझ रहे और उनसे छुटकारा पाने के लिए motivational या किसी inspiration की तलाश में है तो आप आचार्य चाणक्य द्वारा दिए गए Motivational और Inspirational Hindi Quotes को जरूर पढ़े। चाणक्य ने वैसे तो जीवन पर आधारित अपने अनेक विचार व्यक्त किये है जिनमे से आज हम आपके सामने 25 Chanakya Inspirational Quotes On Life प्रस्तुत करने जा रहे है।

Motivational Chanakya Quotes On Life

  • फूलों की सुगंध केवल हवा की दिशा में ही फैलती हैं, लेकिन एक व्यक्ति की अच्छाई हर दिशा में फैलती हैं।
  • सिर्फ पानी से नहाने वाला कभी सफल नहीं होता, पसीनें से नहाने वाले ही दुनिया बदलते हैं।
  • जब तक तुम दौड़ने का साहस नहीं जुटाओगे, प्रतिस्पर्धा में जीतना तुम्हारे लिए असंभव बना रहेगा।
  • कदम, कसम और कलम हमेशा सोच समझ कर ही उठाना चाहिए।
  • किसी भी मनुष्य की वर्तमान स्थिति देख कर उसके भविष्य का उपहास मत उड़ाओ, क्योकि समय में इतनी शक्ति हैं की वो एक मामूली से कोयले को भी हीरे में बदल देता हैं।
  • आप अपनी जिंदगी की तुलना अन्य लोगों के साथ मत करो, सूर्य और चन्द्रमा दोनों चमकतें हैं लेकिन अपने अपने समय पर।
  • आपका खुश रहना ही आपके दुश्मनो के लिए सबसे बड़ी सज़ा हैं।
  • जीवन में भय को नजदीक ना आने दो, अगर यह नजदीक आये तो इस पर हमला कर दो, अर्थात भय से भागो नहीं इसका सामना करो और इसे हरा दो।
  • जीवन में काम छोटा हो या बड़ा अपनी पूरी शक्ति लगाकर करना चाहिए ये गुण हमें शेर सिखाता हैं।
  • धोखे से कमाए हुए धन को पुण्य के काम में लगाओगे, तो पुण्य उसे मिलेगा जिसे तुमने धोखा दिया।
  • अपनी गलती को स्वीकारना झाड़ू लगाने के सामान हैं, जो थोड़ा अजीब लगता हैं लेकिन स्वयं को चमकदार और साफ़ कर देती हैं।
  • काग़ज अपनी किस्मत से उड़ता हैं, लेकिन पतंग अपनी काबिलियत से, इसलिए किस्मत साथ दे ना दे काबिलियत जरूर साथ देती हैं।
  • बुढ़ापे में आपको रोटी आपकी औलाद नहीं, आपके दिए हुए संस्कार ही खिलाएंगे।
  • पिता की दौलत पर क्या घमंड करना, मज़ा तो तब हैं जब दौलत अपनी हो और घमंड पिता करे।
  • जूनून कितना भी चमकीला हो, पर उससे आग का काम नहीं लिया जा सकता।
  • जिंदगी को इतनी सस्ती मत बनाओ की दो कौड़ी के लोग खेल कर चले जाएं।
  • एक बात का हमेशा ध्यान रखो की समय और स्थिति कभी भी बदल सकती हैं, इसलिए कभी किसी का अपमान मत करो।
  • अपमानित होकर जीने से अच्छा मरना हैं, मृत्यु तो बस एक क्षण का दुःख देती हैं, लेकिन अपमान हर दिन जीवन में दुःख देता हैं।
  • जीवन में संतुलित दिमाग जैसी कोई सादगी नहीं है, संतोष जैसा कोई सुख नहीं है, लोभ जैसी कोई बीमारी नहीं है और दया जैसा कोई पुण्य नहीं हैं।
  • चाणक्य कहते हैं की कभी कभी हम किसी के लिए इतना भी जरुरी नहीं होते जितना हम सोच लेते हैं।
  •  चाणक्य कहते हैं की हमेशा जीतने वाला ही नहीं, कहां पर हारना हैं ये जानने वाला भी सिकंदर होता हैं।
  •  चाणक्य कहते हैं की समय जब निर्णय करता हैं, तब गवाहों की जरुरत नहीं होती।
  •  आचार्य कहते हैं की तन की खूबसूरती तो एक भर्म हैं, सबसे खूबसूरत तो आपकी वाणी हैं, जो चाहे तो दिल जीत ले और चाहे तो दिल चिर दे।
  •  आचार्य के अनुसार जीवन की सबसे बड़ी गलती वही होती हैं, जिस गलती हम कुछ सिख नहीं सकते।
  •  आचार्य कहते हैं समय जिसका साथ देता हैं वो बड़े बड़ों को मात देता हैं, अमीर के घर बैठा कौवा भी सबको मोर लगता हैं और गरीब का भूखा बच्चा भी सबको चोर लगता हैं, इंसान की अच्छाई पर सब खामोश रहते हैं, और चर्चा अगर बुराई पर हो तो गूंगे भी बोल पड़ते हैं।

इसे भी जरूर पढ़े: Motivating Golden Thought of Life in Hindi

Chanakya Hindi Quotes on Education

जैसा की दोस्तों हम सभी ये जानते है की चाणक्य एक राजनितिक विशेषज्ञ होने के साथ साथ एक महान शिक्षक भी थे ऐसे में शिक्षा के प्रति उनके विचारो को जानना हमारे लिए और भी आवश्यक हो जाता है। तो आइये दोस्तों आगे बढ़ते है और पढ़ते है Chanakya Quotes in Hindi on Education.

Chanakya Hindi Quotes on Education

  • विद्या को चोर भी नहीं चुरा सकता।
  • निरंतर अभ्यास ना करने पर ज्ञान भी विष के समान हो जाता हैं।
  • शिक्षा ही एक ऐसी चीज हैं जिसके द्वारा हम सौंदर्य और यौवन दोनों को मात दे सकते हैं।
  • आचार्य चाणक्य के अनुसार मूर्खो की तारीफ सुनने से ज्यादा समझदारों की डांट सुनना बेहतर हैं।
  • विद्या कामधेनु के समान गुणों वाली हैं, बुरे समय में भी फल देने वाली हैं, प्रवास काल में माँ के समान तथा आपका गुप्त धन हैं।
  • शिक्षा आपकी सबसे अच्छी मित्र है, शिक्षित व्यक्ति हर जगह सम्मान पाता है ।
  • विद्या प्राप्त करने के लिए मन का शांत और एकचित्त होना बहुत जरूरी होता है।
  • शिक्षक कभी साधारण नहीं होता प्रलय और निर्माण उसकी गोदी में खेलते है।
  • साज-श्रृंगार के बारे में सोचने वाला व्यक्ति कभी भी एक जगह ध्यान केंद्रित करके विद्या नहीं प्राप्त कर पाता।
  • एक विद्यार्थी को कभी भी अपने मन में लोभ या लालच की भावना नहीं आने देना चाहिए।

इसे भी जरूर पढ़े: Motivational Quotes for Students

Chanakya Success Quotes in Hindi

चाणक्य को हर समय का सबसे चतुर राजनीतिज्ञ माना जाता है। उनकी चतुर नीतियों और तेज दिमाग ने प्राचीन समय में शाही प्रशासन के कार्य करने के तरीके को बदल दिया। अर्थव्यवस्था से लेकर लोगों के प्रबंधन तक, उनके पास जीवन और इसकी सूक्ष्म वास्तविकताओं की गहरी समझ थी। चाणक्य के अनुसार, इंसान को विभिन्न परिस्थितियों में विभिन्न प्रकार के लोगों से निपटने के लिए निरंतर सीखने वाला होना चाहिए और उस सफलता पाने के लिए विभिन्न तकनीकों को लागू करना चाहिए।  तो आइये दोस्तों चाणक्य द्वारा दिए गए इसी तरफ की और सफलता पाने वाले सुविचारों (Chanakya Success Quotes in Hindi) को पढ़ते है:

Chanakya Success Quotes in Hindi

  • जीवन में आगे बढ़ना हैं तो बहरे हो जाओ, क्योंकि अधिकतर लोगों की बातें मनोबल गिराने वाली होती हैं।
  • मनुष्य जन्मों से नहीं कर्मों से महान होता है।
  • एक बार जब आप किसी चीज़ पर काम करना शुरू कर देते हैं, तो असफलता से डरना नहीं चाहिए और उसे छोड़ना नहीं चाहिए। ईमानदारी से काम करने वाले लोग सबसे ज्यादा खुश रहते हैं।
  • जीवन में दो ही लोग असफल होते हैं, एक वो जो सोचते हैं करते नहीं, दूसरे वो जो करते हैं परन्तु सोचते नहीं।
  • जो स्त्री पराये घर में रहती हैं, जो पेड़ नदी किनारे रहते हैं, जो राजा मंत्री न रखता हो, ये तीनों बहुत जल्दी नष्ट हो जाते हैं।
  • जिंदगी की दौड़ में जो आपको हरा नहीं पाते, वे आपको तोड़ कर हराने की कोशिश करते हैं।
  • जिसमें नुकसान सहने की ताक़त हो वही मुनाफा कमा सकता हैं, फिर चाहे वो कारोबार हो या रिश्ते या कोई युद्ध।
  • इस बात को व्यक्त मत होने दीजिये की आपने क्या करने का सोचा हैं, बुद्धिमानी से इसे रहस्य बनाये रखिये और इस काम को करने के लिए द्रढ़ रहिये।
  • जो शक्ति ना होते हुए भी मन से हार नहीं मानता, उसको दुनिया की कोई ताक़त परास्त नहीं कर सकती।
  • जो अपने कर्तव्यों से बचते हैं, वे अपने आश्रित परिजनों का भरण पोषण नहीं कर पाते।
  • अपने कर्म पर विश्वास रखिये राशियों पर नहीं, राशि तो राम और रावण की भी एक ही थी, लेकिन नीयति ने उन्हें फल उनके कर्म अनुसार दिया।
  • विचार ना करके कार्य करने वाले व्यक्ति को लक्ष्मी त्याग देती हैं।
  • कामयाब होने के लिए अच्छे मित्रो की आवश्यकता होती हैं, और ज्यादा कामयाब होने के लिए अच्छे शत्रुओं की जरुरत होती हैं।
  • अक्सर वही लोग हम पर ऊँगली उठाते हैं, जिनकी हमें छूने की औकात नहीं होती।
  • जीवन में कभी मूर्खों से वाद-विवाद ना करे, इससे बस आप स्वयं का समय ही नष्ट करेंगे।

इसे भी जरूर पढ़े: Real Truth of Life in Hindi

Chanakya Anmol Vachan in Hindi

Chanakya Anmol Vachan in Hindi

  • जीवन में दान दरिद्रता को नष्ट कर देता हैं।
  • जीवन में ऋण, शत्रु और रोग को जल्द से जल्द समाप्त कर देना चाहिए।
  • जीवन में कुछ नया पाने की चाहत में वो मत खो देना जो पहले से तुम्हारा हैं।
  • मैं सब जानता हूँ यही सोच इंसान को कुए का मेंढक बना देती हैं।
  • बहुत मुश्किल हैं उस शख्स को गिरना, जिस शख्स को चलना ठोकरों ने सिखाया हो।
  • जब मित्र प्रगति करे तो गर्व से कहो की वो हमारा मित्र हैं, जब मित्र मुसीबत में हो तब गर्व से कहो हम उसके मित्र हैं।
  • दूसरों की गलतियों से सीखो, अपने ही ऊपर प्रयोग करके सीखने को तुम्हारी आयु कम पड़ेगी।
  • अपनी जुबान की ताक़त कभी अपने माता पिता पर मत आज़माओ, जिन्होंने तुम्हे बोलना सिखाया हैं।
  • दुष्ट और सांप दोनों में सांप अच्छा हैं ना की दुष्ट, सांप तो केवल एक ही बार डसता हैं परन्तु दुष्ट पग-पग पर डसता हैं।
  • संसार एक कड़वा वृक्ष हैं और इसके दो ही फल अमृत जैसे मीठे होते हैं, एक मधुर वाणी और दूसरी सज्जनों की संगती।
  • जो तुम्हारी बात सुनते हुए इधर उधर देखे, उस पर कभी विश्वास मत करना।
  • आँख से अंधे को दुनिया नहीं दिखती, काम के अंधे को विवेक नहीं दिखता, मद के अंधे को अपने से श्रेष्ठ नहीं दिखता और स्वार्थी को कही भी दोष नहीं दिखता।
  • कमजोर व्यक्ति से दुश्मनी ज्यादा खतरनाक होती हैं, क्योंकि वह उस समय हमला करता हैं जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते।
  • गद्दारो की टोली में यदि हाहाकार हो तो समझ लो देश का राजा महान और चरित्रवान हैं, और देश प्रगति पथ पर तीव्र अग्रसर हैं।
  • जो व्यक्ति स्पष्ट, साफ़ और सीधी बात करता हैं उसकी वाणी तीव्र और कठोर होती जरूर हैं, लेकिन ऐसा व्यक्ति किसी को धोखा नहीं देता।
  • ना कोई किसी का मित्र हैं, ना कोई किसी का शत्रु, लोग कार्य वश ही एक दूसरे के मित्र व शत्रु बनते हैं।
  • शरीर की सुंदरता के मोह में पड़कर व्यक्ति पथ भ्रष्ट हो जाता हैं, शरीर और चेहरे की सुंदरता का आकर्षण व्यर्थ हैं, हर स्त्री का सुख एक समान हैं अतः व्यर्थ ही इस मृग-मरीचिका में पड़ना अनुचित हैं।
  • चाणक्य के अनुसार जो व्यक्ति आपको गिराने की कोशिश करता हैं उस पर तरस खाओ, क्योंकि वो पहले से ही आप से नीचे हैं।
  • चाणक्य के वचन की मंदिर में वो भगवान हैं जिसे हमने बनाया, लेकिन घर में माँ-बाप वो भगवान हैं जिन्होंने हमें बनाया।
  •  जीवन में दान देने से पहले अगर तुम्हारा भाई कमजोर हो तो उसे सहारा दो, क्योंकि तुम्हारे दान की भगवान से ज्यादा जरुरत तुम्हारे भाई को हैं।

Chanakya Hindi Suvichar

Chanakya Hindi Suvichar

  • जिस व्यक्ति के पास धन हैं लोग स्वतः ही उसके मित्र बन जाते हैं।
  • जीवन में संस्कार दिए बिना सुविधाएं देना पतन का कारण होता हैं।
  • मुर्ख व्यक्ति को पशु समझ कर त्याग देना चाहिए।
  • किसी के बुरे वक़्त पर हंसने की गलती मत करना, ये वक़्त हैं सबके चेहरे याद रखता हैं।
  • झुको केवल उतना ही जितना सही हो, बेवज़ह झुकना केवल दूसरो के अहम् को बढ़ावा देता हैं।
  • आमदनी प्रयाप्त ना हो तो अपने खर्चो पर नियंत्रण रखिये, और जानकारी प्रयाप्त ना हो तो अपने शब्दों पर नियंत्रण रखिये।
  • समाज में बदलाव क्यों नहीं आता, क्योंकि गरीब में हिम्मत नहीं, मध्यम को फुर्सत नहीं और अमीर को जरुरत नहीं।
  • संसार जरुरत के नियम पर चलता हैं, जिस सूरज का सर्दियों में इंतज़ार होता हैं उसी सूरज का गर्मियों में तिरस्कार होता हैं, इसलिए आपकी कीमत तब होगी जब आपकी जरुरत होगी।
  • जीवन में थकान कभी भी काम के कारण नहीं होती, बल्कि चिंता, निराशा, भय और असंतोष के कारण होती हैं।
  • साथ रह कर जो छल करे उससे बड़ा कोई शत्रु नहीं हो सकता, और जो हमारे मुँह पर हमारी बुराइयाँ बता दे उससे बड़ा कोई मित्र नहीं हो सकता।
  • गुणों से मानवता की पहचान होती हैं, ऊँचे सिंघासन पर बैठने से नहीं, महल के उच्च शिखर पर बैठने के बावजूद कौवे का गरुड़ होना असंभव हैं।
  • किसी भी कार्य को कल पर नहीं छोड़ना चाहिए, अगले पल क्या हो जाए कौन जानता हैं।
  • जीवन में यदि किसी व्यक्ति की बात बुरी लगे तो दो तरह से सोचो, यदि व्यक्ति महत्वपूर्ण हैं तो बात भूल जाओ और अगर बात महत्वपूर्ण हैं तो व्यक्ति को भूल जाओ।
  • किसी को ये मत महसूस होने दो की आप अंदर से टूटे हुए हो, क्योंकि लोग टूटे हुए मकान की ईंटे तक उठा ले जाते हैं।
  • जीवन को उस तालाब की तरह बनाओ, जहाँ शेर भी पानी पीए और बकरी भी लेकिन सर झुकाके।
  • कुए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुककर जाती हैं तो भर कर बाहर आती हैं, जीवन का भी यही गणित हैं जो झुकता हैं वो प्राप्त करता हैं, दादागिरी तो हम मरने के बाद भी करेंगे, लोग पेडल चलेंगे और हम कन्धों पर ।
  • श्रेष्ठता जन्म से नहीं आती, गुणों के कारण इसका निर्माण होता हैं, दूध दही छाछ और घी सभी एक ही कुल के होते हुए भी सब के मूल्य अलग अलग होते हैं।
  • इंसान कहता हैं की टूटी हुई चीज मंदिर में नहीं रखनी चाहिए, तो फिर इंसान खुद टूट कर क्यों मंदिर में जाता हैं।
  • पिता के द्वारा डांटा गया “पुत्र”, गुरु के द्वारा डांटा गया “शिष्य” तथा सुनार के द्वारा पीटा गया “सोना”, ये सब “आभूषण” ही बनते हैं।
  • आचार्य चाणक्य के अनुसार पानी मर्यादा तोड़े तो विनाश, और वाणी मर्यादा तोड़े तो सर्वनाश होता हैं, इसलिए वाणी को वीणा बनाये ना की वाणी को बाण।
  • अपनी सफलता का रौब अपने माता-पिता पर दिखाओ, क्योंकि उन्होंने अपनी जिंदगी हार कर आपको जिताया हैं।
  •  अपना दर्द सबको ना बताये, क्योंकि मरहम तो एक आधे घर में होता हैं मगर नमक हर घर में मिलता हैं।
  •  मुर्ख व्यक्ति को दो पैरों वाला जानवर समझ कर त्याग देना चाहिए, क्योकि वह अपने शब्दों से शूल के समान उसी तरह भेदता रहता हैं, जैसे अद्रश्य कांटा चुभ जाता हैं।
  •  चाणक्य के अनुसार कभी किसी के सामने अपनी सफाई पेश मत करो, क्योकि जिसे तुम पर विश्वास हैं उसे इसकी जरुरत नहीं, और जिसे तुम पर विश्वास नहीं वो मानेगा ही नहीं।
  •  आचार्य कहते हैं हमें अपनी सोच अच्छी रखनी चाहिए, क्योंकि नज़र का इलाज तो मुमकिन हैं पर नज़रिये का नहीं।

चाणक्य एक महान विद्वान थे और उन्हें तीन वेदों का ज्ञान भी था। किंवदंती के अनुसार, चाणक्य ने चंद्रगुप्त के पालक-पिता को एक बड़ी राशि का भुगतान किया और उसे अपने पालक-पिता से दूर ले गए। उन्होंने 7 वर्षों तक चंद्रगुप्त को शाही कर्तव्यों के लिए प्रशिक्षित किया। चाणक्य ने सोने के सिक्कों के अपने खजाने को किसी सुरक्षित स्थान पर छिपा दिया था जब चंद्रगुप्त वयस्क हो गए, तो चाणक्य ने अपने खजाने की मदद से अपनी एक सेना खरीद ली। उन दोनों ने धाना नंदा के राज्य पर आक्रमण किया, लेकिन उन्हें एक गंभीर हार का सामना करना पड़ा। धाना नंदा के साम्राज्य पर आक्रमण करते समय उन्होंने कुछ गलतियाँ कीं और दूसरी बार सेना को इकट्ठा करने के दौरान उन्होंने अपनी रणनीति बदल दी। उन्होंने पहले धाना नंदा के राज्य के सीमावर्ती गांवों पर हमला किया और फिर धीरे-धीरे राज्य की राजधानी पाटलिपुत्र (महावमसा में पाटलिपुत्र) की ओर आगे बढ़ गए।

चाणक्य ने चंद्रगुप्त को नया राजा नियुक्त किया। उन्होंने कुछ मछुआरों को आदेश दिया कि वे धाना नंदा द्वारा छिपे खजाने का स्थान खोजें। जब खजाने का स्थान मिल गया, तो चाणक्य ने मछुआरों को भी मार डालने का आदेश दिया। उसने तब कुछ लोगों को राज्य से सभी विद्रोहियों और लुटेरों को खोजने और खत्म करने के लिए नियुक्त किया। उन्होंने मुख्यमंत्री के रूप में चंद्रगुप्त के पुत्र बिन्दुसार की भी सेवा की और उन्हें अपने पिता की तरह शासन करने में मदद की।

चाणक्य को बहुत चतुर और बुद्धिमान होने के लिए जाना जाता है। उन्होंने अपने साम्राज्य की स्थापना और विस्तार में चंद्रगुप्त की मदद की। लगभग हर निर्णय उनके द्वारा लिया गया था और उन्होने दोनों शासकों, चंद्रगुप्त और बिन्दुसार की सहायता की, जब तक वे मंत्रालय में था, तब तक राज्य पर सहजता से शासन किया।

तो इसी के साथ हम ये उम्मीद करते है दोस्तों की आपको ऊपर दिए गए Life, Motivational and Success पर दी गयी Chanakya Quotes in Hindi जरूर पसंद आए होंगे। पसंद आने पर इन Chanakya Hindi Quotes को अपने दोस्तों और प्रियजनों के साथ Whatsapp, Facebook और Twitter पर जरूर शेयर करे और नीचे दिए Comment Box में लिख कर हमे जरूर बताए की कौनसी Chanakya Quotes ने आपको सबसे ज्यादा मोटीवेट किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *