Mat Roko Rone Do Mujhe

मत रोको रोने दो मुझे,
आँसुओं को पी जाने दो.
वो चली गयी अपनी यादें देकर,
उसकी यादों में हे खो जाने दो!

हर पल रोती है आँखे मेरी,
के अश्कों को भी जम जाने दो.
अब तो दिन के उजाले से भी डर लगता है,
मुझे रात के अंधेरे मे खो जाने दो!

कैसे बयान करूँ दिल का दर्द लफ़्ज़ों मे,
आँखो को हे सब कह जाने दो,
अब सहा नही जाता उससे जुदाई का दर्द,
के ज़हर को ही मुक्ति समझ कर अपनाने दो!

अब कोई तमन्ना नही मेरी जीने की,
मुझे मौत के पहलू मे सो जाने दो!!

Mat Roko Rone Do Mujhe
Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *