Yea Kambakht Teri Yadein Hume Bahot Tadpati Hai

 

 ये कम्बख़्त तेरी यादें हमें बहोत तड़पाती हैं, चुप-चाप ही ये मेरे खवाबों में चली आती हैं, सताती हैं हमें ये, हमें बहोत रूलाती भी हैं, छु कर मेरी रूह …

Read More